Best 45 Badnam ishq shayari in hindi

Badnam Ishq shayari aaj kaun sunna nahi chahta? Abhi social media or logo jo engaging ho rahi hai usse logo ke bich or nazdikiya ho rahi hai. Or dono me pyar mohabbat ke kisse bade viral ho rahe hai. Lekin dekha jaye to unme se door ki relationship hoti hai tut jati hai . Un tute huye Ashiq par shayari. Hum  broken heart shayari likhe hai.  Jisme ishq me badnam shayari hai.

 

बदनाम इश्क पे शायरी /Badnam ishq shayari

******
 
 
 मोहब्बत  को गवारा कहने  की हिम्मत ना करो
जो मोहब्बत ने  सिखया वो किसी ने नहीं  सिखया
 
Mohabbat ko gawara kahne ki himt na karo,
Jo mohabbat ne sikhaya wo kisi ne nhi sikhaya…!

 

Badnam shayari, ishq me badnam shayari, dil se badnam shayari
Badnam shayari

 

Ishq me badnam shayari

 
 
तुझे  दोष  नहीं है, हमे  तो पागल थे 
खैर छोडो कौन तुम अपने थे
 
Tujhe doshh nhi hai, hum to pgl the,
Khair chhodo kaunse tum apne the…!
 

Badnam ishq shayari in hindi

 
रिश्ता निभाया जाता है दोनों साइड स
ये कहने वाले खुद एक साइड का वेट करते है.
 
Ishta nibhaya jata hai dono side se,
Ye kahne wale khud ek side ka wait krte hai…!
 
 

Badnam ishq shayari

 
मेने एक  चीज़ तो  सिखि मोहब्बत में
किसी  को कितना भी   खुश करलो तुम्हे तो  वही रुलाएगा
 
Mene ek chiz to sikhi mohabbat me
Kisi ko kitna bhi khush karalo tumhe ro wahi rulaega..!
 
 
 
 
मुझे इश्क़ में एक चीज़  पसंद है
तुझे खोने का ढोंग  करना है.
 
Mujhe ishq me ek chiz pasand hai..
Tujhe khone ka dong karna hai..!
 
Heart touch Badnam ishq shayari 
 
सिखयातो पे कौन  ध्यान देता है.
हम तो उसकी नादानियों  से परेशां है
 
Sikhayato pe kaun dhyan deta hai
Hum to uskk nadaniyo se pareshan hai..
 
Badnam ishq shayari
 
बदनाम इश्क को बदनाम रहने दो
आज कल के बच्चे  इसको बाबू सोना के नाम देते है 
 
Badnam ishq ko badnam rahne do
Aaj kal ke bachhe isko shona ke naam dete hai…!
 
Badanam ishq  shayari pagal
 
यूं तो  बहुत से मिले तुमसे बेहतर
 पर तुम्हारे जितना पागल नही मिला
 
Yoon to bahut se mile tumse behtar
Par tumare jitna pagal nahi mila…!! 
 
 
तसली दे देते है खुद को खुद ही,
क्या खोया, जिसको पाया ही नही।  
 
Tasli de dete hai khud ko khud hi,
Kya khoya, jisko paya hi nahi…! 
 
बदनाम शायरी / Badnam ishq shayari
 
लोग नफरत में अंधे होकर यही चाहते है 
वो खुद उठ नही सकते इसलिए दूसरो को इन गिराते है।।
 
Log nafrat me andhe hokar yahi chahte hai 
Wo khud uth nhi sakre esliye dusro ko girate hai..!!
 
नाम बदनाम होने की चिंता छोड़ो मेरे दोस्त 
जब जब चर्चे हुए है तब तब मशहूर हुए है हम।।
 
Naam badnam hone ki chinta chhodo mere dost
Jab jab charcha hue hai tab tab mashoor hue hai hum…!!
 
आज बदनाम वही 
जिसका काम है सही।।
 
Aaj badnam wahi 
Jiska kam hai sahi ..!!
 
हम तो बदनाम हुए कुछ इस कदर की 
पानी भी पिए तो लोग शराब कहते है।।
 
Hum to badnam hue kuch is kadar ki 
Pani bhi liye to log sharab kahte hai..;!
 
बदनाम तो बहुत है हम जमाने में 
ये बता तेरे सुनने में कौनसा किस्सा आया ।।
 
 
Badnam to bahut hai hum jaamne me 
Ye bta tere sunne me kaunsa kissa aaya..;!
 
मुझे बदनाम करके शायरी  /Badnam ishq shayari
 
 
मजबूर है सब जमाने के गुलाब होने कुछ करना 
नही पड़ता जमाने में बदनाम होने को ।।
 
Majbur hai sab jamane ke gulam hone kuch karna
Nahi padta jamne me badnam hone ko..;!
 
में तो फिर भी इंसान हूं लोग तो खविशे पूरी 
नही होने पर खुदा को भी बदनाम किया करते है।।
 
Me to fir bhi insan hoon log to khawishe puri 
Nahi hone par khuda ko bhi badnam karte hai ..!!
 
जिस दिल में बस था नाम तेरा हमने वो दिया 
ना होने दिया तुझे बदनाम बस तेरे नाम लेना छोड़ दिया।।
 
Jis dil me bas tha naam tera humne wo diya 
Na hone diya tujhe badnam bas tere nam lena chhod diya..!!
 
ये तो अच्छा हुआ कुदरत ने रंगीन नही रखे आंसू
वरना जिसके दामन में गिरते वो भी बदनाम हो जाता ।।
 
Ye to achha hua kudrat ne rangon nahi rakhe aashu 
Varna jiske daman me girate wo bhi badnam ho jata..!!
 
शायरी के शौक ने इतना तो काम कर दिया 
जो नही जानते थे उन्हें भी बदनाम कर दिया।।
 
Shayari ke shauk ne itna to kam kar diya 
Jo nahi jante the unhen bhi badnam.kar diya..!!
 
 
बदनाम मोहब्ब्त शायरी  
 
ना कर सको ऐसा कोई काम मत करना 
जिस्म की चाहत में इश्क को बदनाम मत करना।।
 
Na kar sako aisa koi kam mat karna,
Jism ki chahat main ishq ko badnam mar karna..!!
 
 
अब ये किस्सा बड़ा आम सा है 
इश्क में जो सच्चा है वही बदनाम है ।।
 
Ab ye kissa bada aam sa hai 
Ishq me jo sachh hai wahi badnam hai..;!
 
ये जो मोहब्त को बदनाम करते है 
असल तो ये है उन्हें कभी मोहब्बत हुई ही नहीं।।
 
Ye jo mohabbat ko badnam karte hai 
Asal to ye hai unhe kabhi mohabbat nahi hui..!!
 
गलत मनचले आशिक्यो की थी
बदनामी सारे जहा में इश्क की हुई।।
 
Galat manchale ashiuqo ki thi 
Badnami sare jaha me ishq ki hui..;!
 
 
बदनाम जिंदगी
 
आओ दुश्मनी रूबरू होकर करते है ये 
झूठी दोस्ती निभा कर दोस्ती को बदनाम करते है ।
 
Aao dushmani rubru hokar karte hai ye 
Jhooti dosti nibha kar dosti ko badnam karte hai..;!
 
मौत तो यूं ही बदनाम करते है लोग 
तकलीफ तो साली जिंदगी देती है।
 
Maut to yoon hi badnam karte hai log 
Takleef to sali zindgi deti hai..;!
 
 
बदनाम सुविचार 
 
 
नाम नही है  
फिर भी बदनाम है हम ।
 
Naam nahi hai 
Fir bhi badnam hai hum .;;
 
शोहरत तो बदनामी से ही मिलती है ।
और सुना है कि लोग बदनामी के किस्से कान लगाकर सुनते है।।
 
Shoharat to badnami se hi milti hai 
Aur suna hai ki log badnami ke kisse kan lagakar sunte hai..!!
 
दुश्मन तोह बहुत है पर वो कहते है ना 
शेर का शिकार कुत्ते से नही होता।।
 
Dushamn toh bahut hai par kahte hai na 
Sher ka shikar kutte se nahi hota..!!
 

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.