Ek shayari likhi kbhi milogi to sunaunga  munawar Faruqui

Ek shayari likhi hai kabhi milogi to sunaunga – munawar Faruqui

I know ये shayari आपको control se बाहर कर देगी  इस shayari में जो इश्क का kalma है Ek shayari likhi hai पढ़ कर आपको bhi किसी से ishq karne को मजबूर कर देगी। ये shayari munawar Faruqui द्वारा लिखी गई है। ये पहले बार शायरी lock up show ke दौरान ये shayari bahut Jada famous हो गई थी। 

और जो उनके पड़ने का अंदाज है और जो उनके चहरे पे खामोशी दिखती है padte waqt वो वही sabko अपनी aur Jada लगाव बना देती है। आपके पिछली पोस्ट पे कॉमेंट के वजह से हमने एक और munawar Faruqui post likhi है। Best munawar Faruqui shayari and poetry 

 

ek shayari likhi hai in hindi – munawar Faruqui

 

एक शायरी लिखी है 

कभी मिलेगी तो सुनाउंग 

 

तेरी सीरत साफ शीशे की तरह,

मेरे दामन में दाग हजारों है 

 

तू नायाब किसी पत्थर की तरह, 

मेरा उठना बेठठान बाजारों में है। 

 

तेरी मोजूदगी का इंतराम कर भी लूं,

जब होगा रूबरू तो ये जज्बात कहा छुपाऊंगा । 

 

एक उम्र लेके आना,

में खाली किताब लेके आऊंगा,

 

तोड़ कर लाने के वादे नहीं 

में अपनी कलम से सितारे सजाऊंगा, 

 

मेरी साबर की इंतहा पर शक कैसा 

मेने तेरे आने जाने पे ता उम्र लिखी है, 

 

जमीन पे कोई खास नही मेरा,

तू एक बार कुबूल कर में अपने गवाहों को आसमान से बुलाऊंगा।  

Ek shayari likhi hai ,kabhi miloge to sunaunga, shayari image

 

 

 

एक शायरी लिखी है 

कभी मिलेगी तो सुनाऊंगा, 

 

कई रात गुजारी है इस अंधेरे में,

तुम थोड़ा सा नूर ले आओगे,

 

मेरे तकिए गीले है आंसुओं से,

क्या तुम मुझे अपनी गोद में सुलाओगे, 

 

सुना है बाग है तुमारे आंगन में,

मेरे ला हासिल बचपन को वो झूला दिखाओगे?? 

 

मैने खोया है अपनी हर प्यारी चीज को,

में अपनी किस्मत फिर भी आजमाऊंगा, 

 

एक शायरी लिखी है 

कभी मिलेगी तो सुनाऊंगा, 

 

munawar Faruqui

 

Read this –!! 

 

Ek shayari likhi hai in english – munawar Faruqui

Munawar Faruqui shayari

 

Ek shayari likhi hai,

Kabhi milogi to sunaunga,

 

Teri seerat saaf shishe ki tarah 

Mere daman me daag harazon hai,

 

Tu naayaab kisi patther ki tarah,

Mera uthna baithhna bazaron mein hai. 

 

Teri majoodgi ka enteraam kar bhi lun,

Jab hoga roobaruh to ye jazbaat kaha chhupaunga, 

 

Ek umr leke aana,

Main khali kitab leke aaunga,

Tod kar laane ke waade nhi,

 Main apni kalam se sitare sajaunga. 

 

Meri sbar ki intehaa par shak kaisa,

Mene tere aane jaane pe ta umr likhi hai,

Zeen pe koi khas nhi mera

 

Tu ek baar qubool kar me apne gawahon ko aasmaa se bulawaunga. 

 

Ek shayari likhi hai,

Kabhi milogi to sunaunga ..

 

munawar Faruqui   

 

ये भी पढ़े 

 

This shayari literally hit our heart, without our permission. There are such words which make us more adorable and to propose yourself to be a lover like that. 

I don’t know if it’s right and wrong. But it really touches your heart for the first time.. 

If you have any queries regarding our post or our site you can comment or send email. We try to reach out. 

 

 

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.