jazbaat shayari SMS in hindi | best jazbaat shayari

नमस्कार दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम पढ़ने jazbaat shayari जिसमे हम जानेंगे hindi shayari के भाग के बारे में । जब भाषा की बार करे तो। कही दो भाषा तो कोई तीन भाषा बताया होगा । लेकिन एक और भाषा है जिसे जज्बातों से जाहिर होती है । जिसका न कोई करता न कहानी कारक होता है । दोस्तों जज्बात ऐसा कहानी का भाग है । जिसे अकसर लोग समझ नही पाते है ।

प्यार की एक भाषा है । एक दूसरे को समझने के लेकिन emotional Shayari होती है वैसे ही jazbaat shayari होती है जिसमे जज़्बात को समझा जाता है । तो दोस्तों आज के आर्टिकल में jazbaat shayari SMS पढ़ेंगे ।

Jazbaat shayari

हवा की मौजो में आज फिर एक नजाकत है ।

लगता है आज उसने दिल से याद हमे किया है।

Hawa ki maujo me aaj fir ek najakat hai

Lagta hai aaj usne dil se yaad hume kiya hai..!!

वक्त लग जाया है दुनिया को बस बार समझने में

जमना लग जाता जायेगा इन्हे जज्बात समझने में।।

Waqr lag jata hai duniya ko bas bar samjhne me

Jamna lag jata jayega unhe jazbaat samjhne me..!!

 

Mere jazbaat shayari

 

खूबसूरत हैं वो जज्बात जो

दूसरो की भावनाओ को समझना जानते है ।।

Khubsurat hai wo jazbaat no

Dusro ki bhavnao ko samjhna jante hai ..!!

 

जज्बातों का रिश्ता हुआ करता था कभी

मोहब्ब्त अब सिर्फ दो रातों का खेल बन कर रह गया है ।।

 

Jazbaron ka rishta hua karta tha kabhi

Mohabbt ab sirf do raton ka khel ban kar rah gaya hai ..!!


 

Read More 


Jazbaat shayari in hindi

चलो खामोशियां की गिरफ्त में चलते है

अगर बाते ज्यादा करली मेरे दोस्त जज्बात खुल जायेंगे।।

 

Chalk khamoshiya ki girft me chalte hai ,

Agar bate jyada kai mere dosr jazbar khul jayenge ..!!

मोहब्ब्त में तेरे इतने जज्बाती हो गए

तुझे सवारने के चक्कर में बर्बाद ही हो गए।।

Mohabbt me tere inte jazbaati hl gaye

Tujhe savarne k chakkar me barbar hi ho gaye ..!!

 

Hindi jazbaati shayari

पूनम का चांद भी निकला है ।

हवाओ की बाहों में गुलमुल के निकल है ।

ना जाने क्यों तुम्हारी याद आती है ।

ये सोच के मेरे दिल महक निकला है ।

 

Punam ka chand bhi nikala hai

Hawao ki bahon me gulmul ke nikala hai ,

Na jane kyun tumhari yaad aati hai

Ye soch ke mere dil mahak nikala hai ..!!

 

ये बस पानी है या में सच में रो रहा हूं,

ये जिंदगी सच में बेदर्द है

या फिर ।में खामखा जज्बाती हो रहा हूं।।

Ye bas pani hai ya me sach me ro raha hoon

Ye zindgi sach me bedard hai

Ya fire khamkha jazbaati ho raha hoo ..!!

 

Ishq jazbaat shayari

 

मेरे किरदार की आजमाइस में लगे थे लोग

हमने हिलने नही दिया ।

खाए तो बहुत धोखे दोस्त लेकिन कभी धोखा

वापस नहीं दिया ।

Mere kirdaar ki aajmai me lage the log

Humne hilane nahi diya

Khaye to bahut dhokhe dost lekin

Kabhi dhokha waps nahi diya .!!

 

ये जो कहते है की हम बरबाद लिखते है

कभी सुकून से बैठ कर पढ़ोगे तो जानोगे ।

हम किसी दिल के जज्बात लिखते है ।।

Ye jo kahte hua ki hum barbad likhte hai .

Kabhi sukun se baith kar padohe to janoge

Hum kisi dil me jazbaat likhte hai ..!!

 

Jazbaat shayari in hindi

 

रुक सकें किसी के लिए करना सब्र किसे है ।

नीचे दिखाकर खुद उपर उठना है ।

यह जज्बात की कदर किसे है ।।

Ruk sake kisi ke liye karna sabar kise hai

Niche dikhakar khud uper uthna hai

Yah jazbaat ki kardar kise hai ..!!

 

Mohabbat jazbaat shayari

 

तेरी मोहब्बत के तरीको को मन गए

खुद को वादों में बंध गए हम।।

 

Teri mohabbat ke tarjko ko man gaye

Khud ko wadon me bandh gaye hum..!!

 

समझाने जाए भी तो किधर जाए

कोई उठाने वाला ही नही हम जो बिखर जाए ।।

 

Samjhane jaye bhi to kidhar jaye

Koi uthane wala hi nahi hum jo bikhar jaye ..!!

 

Dil jazbaat shayari

 

दिल से चाहो तो सजा देते है लोग

सच्चे मोहब्बत भी ठुकरा देते हैयोग

कया देखेंगे दो इंसानों का मिलना साथ में

बैठे दो परिदो को भी उड़ा देते है लोग ।।

 

Dil se chaho to saja dete hai log

Sachhe mohabbt bhi thukara dete hai log

Kya dekhoge do insanon ka man sath me

Baithe do parindo ko bhi uda dete hai log .!!

 

मन ro मसखरी ना कर

बात तू खरी खरी कर

कीमती जज्बात है ये

इनकी तस्करी न कर।

Man ro maskhari na kar

Baat ru khari khari kar

Limit jazbaat hia ye

Inki taskari na kar…!!

 

Khilona jazbaat shayari

 

बदलते दौर के है खेल खेलेंगे किसी रोज़

बच्चे खिलौने से नही लोगो के जज्बातों से खेलेंगे रोज ।।

Badalte dor ke hai khel khenhe kisi roz

Bafhhw khilaun se nahi logo. Ke jajbaton se khelenge roz..!!

ना तो कोई घात करेंगे

ना घायल जज्बात करेंगे

जो जैसी भाषा समझेगा

उससे वैसा बात करेंगे ।।

Naa to koi ghar karenge

Naa ghayal jazabar karenge

Jo jaisi bhasha samjhega

Usse vesi baat karenge ..!!

Afsos jazbaat shayari

 

जरूरी भी फिर भी बार नही समझा

अफसोस ये की हालत नही समझा

कलेजा निकल कर कहते रहे मोहब्बत है

मगर पत्थर दिल ने मेरे जज्बात नही समझा।।

Jaruri bhi fir bhi bar nahi samjha

Afsos ye ki halat mahi samjha

Kaleza nikal kar kahte rahe mohabbat hai

Magar patthar dil ne mere jajbat nahi samjhaa..!!

कमी तो होनी ही है

पानी की शहर में

ना किसी आंख में बचा है

ना किसी के जज्बात में बचा है ।।

Kami to honi hi hai

Pani ki shahar me

Na kisi ankh me badha hai

Na kisi ke jazbaat me bacha hai…!

झुकी हुई पलको से जिनका दीदार किया

सब कुछ भुला के जिनका इंतजार हुआ ।

जो जान ही ना पाए जज़्बात मेरे लिए जिन्हे

दुनिया से बढ़कर मेने प्यार किया। ।।

Jhuki hui palko se jinka didar kiya

Sab kuch bhula ke jinka intezar kiya

Jo jaan hi na paye jazbaat mere liye jinhe

Duniya se badkar mene pyar kiya ..!!

प्यार वो है जो जज्बात को समझे

मुहब्बत वो है जो एहसास को समझे

मिलते है जहा में बहुत अपना कहने वाले

पर अपना वो है जो बिन हर बात को समझे।।

Pyar wo hai jo jazbar ko samjhe

Mohabbat wo hai jo ehsas ko samjhe

Milte hai jaha main bahut apna kahne wale

Par apna wo hai jo bin hae baar ko samjhe..!!

दिल से मिले दिल को आजा देते हैफ

प्यार के जज्बातों को डूबा देते हैबलॉग

दो इंसानों को मिलते कैसे देख सकते हैं लोग

जब साथ परीदो को भी पत्थर मार देते है लोग।

Dil se mile dil ko aaja dete hai log

Pyar se jazbaron ko duba dere hai log

Do insanon ki milne kaise dekh skate hai log

Jab sarh parindo ko bhi patthar mar dete hai log..!!

ना चाहर के अंदाज अलग

ना चाहर के जज्बात अलग

रही सारी बात लकीरों की

तेरे हाथ अलग मेरे हाथ अलग ।।

Na chahae ke andaz alag

Na chhaae ke jazbaat alag

Rahi saei baat lakiro ki

Tere hath alag mere hath alag .!!


Ye bhi jaanne !!


 

Jazbaat shayari

 

छूटे ना कभी आपका साथ

पकड़े रहना सदा मेरे हाथ

मीठी लगती है तेरी हर बात

बता कैसे संभलू ये जज्बात ।।

Chhute na kabhi aapka sath

Pakde rahna sada mere hath

Mithi lagti hai teri har baat

 Aar kaise sabhlh he jazbaat…!!

मुक्कमल होगा सफर एक दिन

बस दिल में ताजा जज्बात रखना

तमाम मुस्कीले आएंगी लेकिन

आपने काबू में हालात रखना।।

Mukmal hoga safar ek din

Bas dil me taza jazbat rakhna

Tamam mushkilon aayegi lekin

Aapne kabu me halat rakhna..!!

हमे उम्मीद है आपको हमारी पोस्ट जरूर पसंद आई होगी इसमें हमने बहुत सारी jazbaat shayari कलेक्शन करा है अगर आपको पसन्द आए तो कॉमेंट में प्यार देना ना भूले jazbaat shayari in Hindi :-

शुक्रिया ।।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.