start exploring

December के कुछ famous Sher 

Hindi shayari  :  Ek Ajanbee.in

ये साल भी उदासियाँ दे कर चला गया
तुम से मिले बग़ैर दिसम्बर चला गया

फिर आ गया है एक नया साल दोस्तोइस बार भी किसी से दिसम्बर नहीं रुका

इरादा था जी लूँगा तुझ से बिछड़ करगुज़रता नहीं इक दिसम्बर अकेले

यकुम जनवरी है नया साल हैदिसम्बर में पूछूँगा क्या हाल है

मुझ से पूछो कभी तकमील न होने की चुभनमुझ पे बीते हैं कई साल दिसम्बर के बग़ैर

हर दिसम्बर इसी वहशत में गुज़ारा कि कहींफिर से आँखों में तिरे ख़्वाब न आने लग जाएँ

Thanks for watching

For more content click blow

Subscribe Now