Munawar Faruqui famous shayari...!!

start exploring

मैं sher हूं  लोग मुझे शायर कहते है

फल ही इतने लगे हुए थे इस पेड़ पे,
लोगो का पत्थर मरना लाजमी था। 

बादशाहो को सिखाया गया है कलंदर होना। 
आप आसान समझते है मुनावर होना। 

मेरे अंदर के अंधेरे को करने दो शिकायत ।
हसा कर लाखो चेहरे को रोशन किया है मेने। 

वो ढूंढ रहे है वजह मेरे मुस्कराने की। 
नादान मेरे सजदो से बेखबर है।   

वो झूठे वादे करते है। मगर मिलने नहीं आते। 
हम भी कमबख्त इश्क से बाज नहीं आते। 

बाजारों में रौनक लोट आई है। 
लगता है वो बेपर्दा बाजार आई है। 

मेने साये लिए है खुद के 
वो मुझसे दूर नही जाते।

For more web Story 

Click Here