Narazgi शायरी Hindi 

Start Reading 

नाराजगी की shayari 

तौबा – तौबा ये कोई तरीका है,भारी महफ़िल मे यहीं रूठने का मौका है।

नाराजगी की shayari 

ऐसे कोई रूठता है क्या, जो मनाने से भी ना माने,अपने ही आशिक की तड़प को ना जाने।

नाराजगी की shayari 

भूझी – भूझी सी क्यों रहती हो हमसे,रूठना है तो थोड़ा, ढंग से रूठो।

नाराजगी की shayari 

इतना गुस्सा किसलिए, किस बात की गुरूर है,आपकी सेवा मे तो आपका ये हाजिर हुजूर है

नाराजगी की shayari 

ये मत सोचो रूठोगी तो मै मना लूँगा,अरे आज तक तो मैंने अपने खुदा को नहीं मनाया 

नाराजगी की shayari 


तू रूठी तो मै रूठ जाऊंगा,तेरी मोहब्बत मे मै लूट जाऊंगा

Thank you for watching our web story to get more attention 

More web story you can visit our web site other wise you can click below link 

Click Here