Kuch famous shayaro shayari...!!

+ + +

start exploring

इरादे बाँधता हूँ सोचता हूँ तोड़ देता हूँ
कही ऐसा ना हो जाए कही वैसा ना हो जाए

आज कुछ और नहीं बस इतना सुनो
मौसम हसीन है लेकिन तुम जैसा नहीं

शायरों की बस्ती में कदम रखा तो जाना
गमों की महफिल भी कमाल की जमती है

मुझे मजबूर करती हैं यादें तेरी वरना
शायरी करना अब मुझे अच्छा नहीं लगता

सदाक़त हो तो दिल सीनों से खिंचने लगते हैं वाइ’ज़हक़ीक़त ख़ुद को मनवा लेती है मानी नहीं जाती

तुम से मिल कर इमली मीठी लगती है….
तुम से बिछड़ कर शहद भी खारा लगता है

Thank you for watching our web story..!!

+ + +

Click Here